मेरी बात

दिल से दुनियॉ तक.......

39 Posts

17 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15237 postid : 934422

टुट्ता नन्हा तारा

Posted On: 9 Jul, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आसमॉ के उपर एक जहाँ था मेरा ।
लाखो के बीच था मै, एक नन्हा सा तारा ।
एक रात अंधेरी छाओ मे, ले रौश्नी अपनी बाहो मे।
मै घुम रहा था अंतरिक्ष मे, साथी तारो के संघ मे ।
आ लड़ा एक तारा ज़ोर से , मेरे आगे के छोर से ।
इस बड़े ज़ोर क झट्के से, मै गिरा टूट कर उपर से।
मै देख रहा था उपर को, मेरे साथी सब तारो को ।
छोड़ अपनी चम्कीली दुनियॉ को, चल पड़ा अंजानी दुनियॉ को ।
थे आगे अंधेरे रास्ते, ना कोई था अब साथ मेरे।
मै डर रहा था, चल रहा था, अंजाने अड़्चनो से लड़ रहा था ।
एक अंजानी सी दुनियॉ मे , मै खुले हाथ अब गिर रहा था ।
थी रौश्नी कुछ यहॉ अलग, टिम-टीमाते तारे अलग ।
बच्चो की थी झुंड अलग, एक बच्चा था इनसे अलग ।
वह देख रहा था उपर को, शायद उपर के तारो को ।
फिर देख मुझे वह गिरता यूँ , जाने क्युँ मूँद ली ऑखो को ।
कुछ मॉग रहा था खुदा से, नन्हे हाथो मे कुछ दुवा से ।
यह देख मेरा मन खुश हुआ , मेरा गिरना अब सफल हुआ ।
अपनो से दूर इस दुनियॉ मे, मै गिर कर के भी अमर हुआ ।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran