मेरी बात

दिल से दुनियॉ तक.......

37 Posts

17 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15237 postid : 978566

मजहब नही है फूलो का

Posted On: 4 Aug, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मज़हब नही है फूलो का, नाहि बैर है किसी धर्म से ।
ये तो चढ़ता है हर मंदिरो में, सजदे भी करता है दर्गाहो पर ।
खिलता है गुलाब कांटो के बीच, कीचड़ मे कमल मुस्काता है ।
देखो इस फूल गुलाब को, ये तो प्यार का संदेश पहुँचाता है ।
कुछ सीखे हम इंसान सभी, इन फूलो, बाग, बगीचो से ।
नफरत की ना हो जगह कही , एक ऐसा सुंदर संसार बसे ।
मिल-झुल के मनाये त्योहार सभी, सुख-दु:ख और बांटे खुशियो को ।
आओ मिलकर हम साथ चले, एक नये भारत के उदय को ॥॥॥॥॥

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran